इंदौर
 बंगाली चौराहा ब्रिज के निर्माण में आ रही तकनीकी खामियों को लेकर हुई बैठक में सांसद और जलसंसाधन मंत्री  तुलसी सिलावट ने PWD अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई. PWD अधिकारियों ने बिना किसी को बताए ब्रिज की डिजाइन बदल दी. इस वजह से ब्रिज बनने की लागत काफी बढ़ जाएगी.

बैठक में स्थानीय भाजपा विधायक महेंद्र हार्डिया भी मौजूद थे. गौरतलब है कि बंगाली चौराहे पर नया ब्रिज बनाया जा रहा है. ब्रिज की दोनों भुजाओं का निर्माण हो चुका है. चौराहे पर माधवराव सिंधिया की प्रतिमा भी शिफ्ट की जा चुकी है. इसके आगे के काम को लेकर ही जनप्रतिनिधियों और PWD अधिकारियों की बैठक थी.

8 करोड़ से ज्यादा खर्च

बैठक में जब PWD अधिकारियों ने नेताओं को बताया कि ब्रिज के डिजाइन में बदलाव किया गया है. अब उसके बीच के हिस्सों को जोड़ा जा रहा है. नई डिजाइन के मुताबिक प्रत्येक 15 मीटर में चार पिलर बनाएं जाएंगे. इसकी वजह से ट्रैफिक रुकेगा. इस वजह से 8 करोड़ से ज्यादा का खर्च आएगा.
अधिकारियों को लगाई फटकार

ये सुनते ही सारे जनप्रतिनिधि नाराज हो गए. खर्च बढ़ने और फ्लाय ओवर की डिजाइन नें आए डिफ्केट की वजह से सांसद और जल संसाधन मंत्री ने नाराजगी जाहिर करते हुए अधिकारियों को फटकार लगाई. हालाकि, बैठक के बाद डिजाइन बदलने को लेकर सहमति बन चुकी है. बता दें, यहां से मेट्रो ट्रेन का रूट भी प्रस्तावित है. ऐसे में अंदाजा लगाया जा रहा है कि अधूरे ब्रिज का काम और भी लंबा खिंच सकता है.

गौरतलब है कि विधानसभा क्रमांक 5 पर स्थित चौराहे पर यातायात का दबाव काफी होता है. इससे निजात के लिए यहां ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है. 80 प्रतिशत पुल निर्माण के बाद अचानक तकनीकी और डिजायन की कमी सामने आ गई. अब फ्लाई ओवर की डिजाइन बदली जाती है, तो इसकी लागत करीब आठ करोड़ रुपए बढ़ जाएगी व निर्माण में भी छह महीने अधिक लगेंगे.

Source : Agency