वाशिंगटन
व्हाइट हाउस के हिंद-प्रशांत नीति निदेशक कर्ट कैम्पबेल ने कहा कि भारत में कोरोना वायरस की विनाशकारी लहर के बावजूद दक्षिण पूर्व एशिया के क्षेत्रों तक 2022 तक अरबों टीके उपलब्ध कराने के लक्ष्य को पूरा कर लिया जाएगा।

कैम्पबेल ने कहा, हमने भारत में अपने साझेदारों के साथ बातचीत की है। जाहिर तौर पर यह भारतीय मित्रों के लिए बहुत मुश्किल वक्त है। अमेरिका ने दिल्ली के साथ खड़े रहने और उनकी मदद करने के लिए दूसरों को निजी तथा सार्वजनिक क्षेत्रों में लाने की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि निजी तथा सार्वजनिक क्षेत्र दोनों में हमारे साझेदारों के साथ हुई बातचीत से पता चलता है कि 2022 के लिए हम अब भी प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि जिन देशों ने सामाजिक दूरी और मास्क लगाने के नियमों को बहुत बेहतर तरीके से लागू किया वे भी अब कोरोना वायरस के नए स्वरूपों के प्रकोप का सामना कर रहे हैं।

Source : Agency