भोपाल
आज  गुरुवार 10 जून को साल का पहला सूर्यग्रहण  लगने वाला है, यह सूर्यग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शुरू होकर शाम के 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा, हालांकि भारत में यह सूर्यग्रहण आंशिक होगा, इसलिए इसका सूतक भी मान्य नहीं होगा। ये वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा जिसमें चंद्रमा सूर्य को इस तरह से ढकेगा जिससे सूर्य का बाहरी हिस्सा प्रकाशमान रह जायेगा और मध्य हिस्सा पूरी चरह से ढक जाएगा। इस स्थिति में सूर्य एक आग की अंगूठी की तरह नजर आयेगा।


खास बात ये है कि यह पहला मौका है ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को शनि जयंती (Shanashchar Jayanti 2021 ) के दिन सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है।तिथि काल गणना के अनुसार 148 साल बाद ऐसा मौका आया है, जब शनि जयंती (पुत्र) के दिन सूर्यग्रहण ( पिता) भी लगने जा रहा है।  सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse 2021) उत्तरी अमेरिका, यूरोप, एशिया में आंशिक रूप में दिखाई देगा, जबकि ग्रीनलैंड, उत्तरी कनाडा और रूस में पूर्ण सूर्य ग्रहण देखने को मिलेगा। इस साल का सूर्य ग्रहण भारत में केवल अरुणाचल प्रदेश में दिखाई देगा।


वही 10 को सूर्यग्रहण ( 10 June Solar Eclipse 2021) के साथ वट सावित्री व्रत और शनि जयंती भी पड़ रही है।इस दिन महिलाएं वट सावित्री का व्रत रखेंगी । यह व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं। इसी दिन शनि जयंती भी है और शनिदेव की विशेष पूजा की जाती है।ज्योतिष के अनुसार, इस बार का सूर्य ग्रहण वृष राशि में लगेगा, इसलिए इन राशि वालों को सतर्क रहने की आवश्यकता है। वृष राशि में लगने वाले इस सूर्यग्रहण का प्रभाव मेष से मीन राशि के जातकों पर ज्यादा होगा।

10 जून 2021 को लगने वाला साल का पहला सूर्य ग्रहण वलयाकार सूर्य ग्रहण (Elliptical Solar Eclipse 2021) होगा। वलयाकार सूर्य ग्रहण उस घटना को कहते हैं, जब चंद्र पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए, सामान्य की तुलना में उससे दूर हो जाता है। इस दौरान चंद्र सूर्य और पृथ्वी के बीच होता है, लेकिन उसका आकार पृथ्वी से देखने पर इतना नज़र नहीं आता कि वह पूरी तरह सूर्य की रोशनी को ढक सके। यानि इस बार सूर्य ग्रहण ‘रिंग एक्लिप्स’ या ‘रिंग ऑफ फायर’ के दुर्लभ दृश्य को चिह्नित करेगा।

Source : Agency