जबलपुर
प्रदेश के चार शहरों रीवा, सतना, कटनी और सिंगरौली में पांच साल से संचालित सीवरेज प्रोजेक्ट्स के अधूरे कामों के मामले में नगर निगम प्रशासन और ठेका कम्पनी की भूमिका की जांच रिपोर्ट सीएम शिवराज सिंह चौहान को पेश की जाएगी। चार माह पहले की गई समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने चारों जिलों की इस परियोजना में वर्षों में अपेक्षित प्रगति नहीं होने पर नाराजगी जताई थी और मुख्य सचिव से इस मामले में रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा था। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि परियोजना के क्रियान्वयन में नगर निगम प्रशासन और ठेका कम्पनी की भूमिका की जांच कर रिपोर्ट शासन को प्रस्तुत की जाए। इसके अलावा अन्य शहरों में भी सीवेज परियोजनाओं की स्थिति की रिपोर्ट नगरीय विकास विभाग मुख्यमंत्री को देगा।

रीवा, सतना, कटनी एवं सिंगरौली नगरीय निकायों के सीवरेज प्रोजेक्ट्स का कार्य वर्ष 2016-17 से चल रहा है। रीवा, सतना में वर्ष 2016 तथा कटनी, सिंगरौली में 2017 से इन परियोजनाओं में प्रारंभ हुआ परंतु ये बार-बार टाइम लेने के बाद भी काम पूरा नहीं कर सके। इन चारों शहरों का कार्य केके स्पन इंडिया लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है। नगरीय निकाय रीवा सीवरेज प्रोजेक्ट की लागत 199.37 करोड़ रुपए तथा सतना परियोजना की लागत 191.56 करोड़ रुपए है। इसी प्रकार कटनी सीवरेज प्रोजेक्ट की लागत 96.50 करोड़ रुपए तथा सिंगरौली की 110.46 करोड़ रुपए है। सभी परियोजनाओं का लगभग एक चौथाई कार्य पूर्ण हुआ है। परियोजना के अंतर्गत पाइप लाइन, रोड रेस्टोरेशन, मेन होल्स, हाऊस सर्विस चैम्बर, हाउस सर्विस कनेक्शन आदि का कार्य होना है।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मूंग उत्पादक किसानों से संवाद किया। मूंग के न्यूनतम समर्थन मूल्य तय होने और खरीदी के लिए समय तय करने के बाद सीएम चौहान इसके पंजीयन का शुभारंभ करेंगे और मूंग व उड़द की किसानी करने वाले किसानों से खरीदी को लेकर चर्चा करेंगे। प्रदेश में किसानों से मूंग की खरीदी 15 जून से प्रारंभ होगी। किसान आज से अपना पंजीयन करा सकेंगे। मूंग की गिरती कीमतों के नुकसान से किसानों को बचाने के लिए समर्थन मूल्य 7196 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया है। साथ ही चने की खरीदी की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 15 जून कर दिया गया है।

Source : Agency