कोलकाता
पश्चिम बंगाल में शनिवार को 5वें चरण के लिए मतदान हुआ, लेकिन उससे एक दिन पहले ममता बनर्जी का एक ऑडियो क्लिप लीक हो गया। जिसमें ममता बनर्जी कूचबिहार हिंसा में मारे गए लोगों के बारे में बात कर रही हैं। इसके तुरंत बाद बीजेपी मामले की शिकायत लेकर चुनाव आयोग के पास पहुंची। साथ ही ममता बनर्जी की पार्टी को कूचबिहार हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कार्रवाई की मांग की। अब इस मामले में सीएम ममता ने पलटवार किया है। साथ ही बीजेपी और केंद्र सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। 

ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि उनके फोन को टैप किया जा रहा है। जिस वजह से वो इस मामले में सीआईडी जांच के आदेश देंगी। उन्होंने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि वे (बीजेपी नेता) हमारी रोजमर्रा की बातचीत पर भी चुटकी ले रहे हैं। ऐसा लगता है कि वे खाना पकाने और अन्य घरेलू कामों पर हमारे फोन कॉल को रिकॉर्ड कर रहे हैं। सीआईडी जांच में पता चलेगा इसके पीछे किसका हाथ था और उन्हें किसी भी कीमत पर नहीं बख्शूंगी। 

सीएम ममता ने ये भी दावा किया कि उन्हें जानकारी मिली है कि केंद्रीय बल कुछ एजेंटों के साथ इस तरह की हरकत में शामिल हैं। हालांकि सीएम से पहले ही उनकी पार्टी ने इस बारे में सफाई दे दी थी। टीएमसी के मुताबिक ये ऑडियो ममता बनर्जी की नहीं है। इसके पीछे पूरी तरह से बीजेपी का हाथ है। ममता बनर्जी ने 10 वर्षों में विकास के नाम पर बंगाल को सिर्फ धोखा दिया- आसनसोल में पीएम मोदी क्या-क्या हुई बात? दावा किया जा रहा है कि ऑडियो टेप में ममता बनर्जी सीतलकुची से टीएमसी उम्मीदवार पार्थो प्रतिम रॉय से बात कर रही हैं। 

कॉल पर पार्थो से ममता ने कहा कि तुम शांत होकर वोट करो, मैं इस पर विचार करूंगी, मैं सभी सीआरपीएफ वालों को गिरफ्तार करवा दूंगी। अभी सभी के शवों को रखो, कल मैं वहां आकर शवों के साथ रैली करूंगी। इसके अलावा ममता बनर्जी पार्थों को सीआरपीएफ जवानों पर एफआईआर दर्ज करवाने और एसपी-आईजी को फंसाने की बात कह रही हैं।

Source : Agency