वाशिंगटन
भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिकों ने अनिवासी भारतीय (ओसीआई) कार्ड की वैधता को बनाए रखने की प्रक्रिया को सरल करने के भारत सरकार के फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि इससे विदेशों में रहने वाले अधिक से अधिक भारतीय इस तरह की प्रक्रिया को चुन सकेंगे।

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अनुसार, ओसीआई कार्डधारकों को अपने कार्ड को कई बार जारी कराते रहने के मौजूदा नियम के बजाय अब 20 साल उम्र होने पर ही दस्तावेज को पुन: जारी कराना होगा।

‘ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पीपुल ऑफ इंडियन ओरिजिन’ (जीओपीआईओ) के अध्यक्ष डॉ. थॉमस अब्राहम ने गुरुवार को मीडिया से कहा, इससे 20 से 50 साल की उम्र के कई ओसीआई कार्ड धारकों में कार्ड पुन: जारी कराने की प्रक्रिया को लेकर भ्रम दूर होगा और किसी को भी ओसीआई कार्ड पुन: जारी कराने के लिए पूरी प्रक्रिया से नहीं गुजरना होगा।

उन्होंने कहा, इससे विदेशों में रहने वाले अधिक से अधिक भारतीयों को ओसीआई बनने का प्रोत्साहन मिलेगा तथा इससे भारत में उनकी यात्रा तथा निवेश से देश को भी लाभ होगा।

विदेशों में रहने वाले भारतीयों में बेहद लोकप्रिय ओसीआई कार्ड उन्हें लंबे समय तक वीजामुक्त यात्रा और भारत में रहने की सुविधा प्रदान करता है। इससे कार्डधारकों को कई सुविधाएं मिलती हैं जो आम तौर पर किसी विदेशी नागरिक को नहीं मिलती हैं। भारत ने अब तक करीब 37.72 लाख ओसीआई कार्ड जारी किए हैं।

Source : Agency