इंदौर
इंदौर के देवी अहिल्याबाई होलकर एयरपोर्ट पर उस वक्त अफरा-तफरी मच गई, जब एअर इंडिया के विमान से धुआं निकलने लगा. धुआं विमान का इंजन स्टार्ट होने के तुरंत बाद निकला. फायर अलार्म बजने से विमान में बैठे पैसेंजर्स जबरदस्त घबरा गए.

धुआं निकलते ही फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस तुरंत रनवे पर पहुंचीं. विमान में उस वक्त 43 पैसेंजर और 6 क्रू मेंबर मौजूद थे. किसी को भी किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ. इंदौर एयरपोर्ट के डायरेक्टर अर्यमा सान्याल ने भी तकनीकी खराबी होने की ही बात कही.

बता दें, ये घटना एयर इंडिया की फ्लाइट AI 635 शुक्रवार सुबह 8.54 पर हुई. विमान जैसे ही उड़ान भरने के लिए रनवे पर पहुंचा, उसके इंजन से धुआं उठाना शुरू हो गया. इसके बाद प्लेन को एप्रिन में वापस लाया गया और यात्रियों को नीचे उतारा गया. इसके कुछ देर बाद सभी यात्रियों को इंडिगो और विस्तारा की फ्लाइट से दिल्ली रवाना किया गया. वहीं, विमान की तकनीकि खराबी सुधारने के बाद उसे बिना किसी पैसेंजर 3.28 बजे दिल्ली रवाना किया गया.

पिछसे साल 31 दिसंबर को भी इंदौर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग हुई थी. दिल्ली-बैंगलुरू फ्लाइट की इमरजेंसी लैंडिंग करवानी पड़ी थी. फ्लाइट में 4 महीने का बच्चा भी सफर कर रहा था, जिसकी अचानक तबियत खराब हो गई. हालांकि, अस्पताल ले जाते वक्त बच्चे को बचाया नहीं जा सका. डॉक्टरों के मुताबिक बच्चे को हाइड्रो सिफेलस नाम की बीमारी थी. इसी के इलाज के लिए पैरेंट्स बच्चे को लेकर दिल्ली से बैंगलुरू जा रहे थे.

इंडिगो फ्लाइट 6E 2248 शाम 5.35 बजे दिल्ली से बैंगलुरू के लिए रवाना हुई थी. फ्लाइट में गोरखपुर के दुर्गेश जायसवाल और अनु जायसवाल अपने चार महीने के बेटे देव जायसवाल के साथ सफर कर रहे थे. उड़ान भरने के दौरान तो बच्चे की तबीयत ठीक थी, लेकिन जैसे ही फ्लाइट कुछ देर हवा में रही, उसकी तबियत खराब होने लगी. इसके बाद शाम 5.55 बजे फ्लाइट की इंदौर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग करवाई गई.

Source : Agency