ग्वालियर
 ग्वालियर में काेराेना मरीजाें की बढ़ती संख्या आैर बढ़ते माैत के आंकड़ाें ने प्रशासन के साथ ही जनप्रतिनिधियाें की चिंता काे भी बढ़ा दिया है। एेसे में बिगड़ते हालात काे काबू करने के लिए अब 15 अप्रैल से सात दिन के लॉकडाउन का निर्णय लिया गया है। इस दाैरान आवश्यक सेवाएं बहाल रहेंगी।

ग्वालियर में बीते तीन दिनाें से राेजाना पांच साै के लगभग मरीज मिल रहे हैं। वहीं बीते 48 घंटे में 21 माैतें हाेने से प्रशासन के साथ ही स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है। मरीजाें का दबाव बढ़ने के साथ ही अस्पतालाें में भी व्यवस्था चरमराने लगी है। शनिवार-रविवार के लॉकडाउन के बाद बाजार में उमड़ी भीड़ काेराेना बढ़ने का बड़ा कारण बन रही है। प्रशासन के लाख प्रयास के बाद भी लाेग मास्क आैर शारीरिक दूरी के नियम का पालन नहीं कर रहे हैं। एेसे में आज आपात स्थिति में आपदा प्रबंधन समिति की बैठक बुलाई गई। जिसमें जनप्रतिनिधियाें के समक्ष काेराेना कर्फ्यू का प्रस्ताव रखा गया। साथ ही जनप्रतिनिधियाें काे बिगड़ते हालाताें से भी अवगत कराया गया। इसके बाद सर्वसम्मति से 15 अप्रैल से काेराेना कर्फ्यू लगाने पर सहमति बन गई है। कर्फ्यू की अवधि सात दिन रहेगी। इस दाैरान आवश्यक सेवाआें काे बहाल रखा जाएगा। जिससे की आमजन काे किसी प्रकार की परेशानी नहीं झेलना पड़े। हालांकि बेमतलब सड़काें पर तफरीह करने वालाें पर सख्ती से अंकुश लगाया जाएगा।

व्यापारियाें की बढ़ेगी परेशानीः काेराेना संक्रमण काे फैलने से राेकने के लिए लॉकडाउन की घाेषणा की गई है। इससे व्यापारियाें की परेशानी बढ़ना तय है। क्याेंकि दुकानें बंद हाेने के कारण लाेगाें काे खासा नुकसान झेलना पड़ेगा।

Source : Agency