नई दिल्ली 

महिलाओं को लेकर कई तरह की बातें की जाती हैं. ऐसा कहा जाता है कि खुद भगवान भी महिलाओं को नहीं समझ पाए कि उनके अंदर क्या चल रहा है. आचार्य चाणक्य कहते हैं कि महिलाओं में कई बुरी बातें होती हैं. इन बुराइयों का आचार्य चाणक्य ने अपने नीतिशास्त्र में वर्णन किया है.

अनृतं साहसं माया मूर्खत्वमतिलोभिता।

अशौचत्वं निर्दयत्वं स्त्रीणां दोषा: स्वभावजा: ।।

इस श्लोक में आचार्य चाणक्य ने महिलाओं की बुराइयों को बताया है. चाणक्य कहते हैं कि ज्यादातर महिलाएं छोटी-छोटी बात पर झूठ बोलती हैं. उनकी इस आदत की वजह से कई बार उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

चाणक्य कहते हैं कि कई महिलाओं का स्वभाव ऐसा होता है कि वे बिना सोचे समझे अचानक कुछ कार्य कर बैठती हैं, जिससे उनके सामने कई परेशानियां आ जाती हैं.

चाणक्य ये भी कहते हैं कि कुछ महिलाओं का स्वभाव बात-बात पर नखरे करना होता है. चाणक्य कहते हैं कि वे दूसरों को प्रभावित करने और उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने के लिए कई प्रकार के नखरे करती हैं.

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि कई महिलाएं अति आत्मविश्वास की वजह से कई बार मूर्खतापूर्ण काम कर जाती हैं. इससे उनके सामने कई तरह की परेशानी आ जाती है और इस कारण उनके मान-सम्मान में भी कमी आती है.

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि कुछ महिलाओं को धन और सोने से ज्यादा लगाव होता है. चाणक्य कहते हैं कि इन सब के लालच में वे कई बार सही-गलत का अंतर करना भूल जाती हैं. यहां तक कि धन के लोभ में कई बार वे दूसरे को नुकसान पहुंचाने से भी नहीं हिचकती हैं.

Source : Agency