पटना 

जदयू के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने उपेंद्र कुशवाहा को नसीहत देते हुए कहा है कि कुशवाहा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से संवाद करें। इस मामले पर पत्रकारों के सवाल पर त्यागी ने कहा कि जदयू खुली पार्टी है, उसमें आलोचना और आत्म आलोचना का अधिकार छिपा हुआ है।

उपेंद्र कुशवाहा जी समता पार्टी के संस्थापक नेताओं में से रहे हैं। उनको सार्वजनिक करने के बजाए नेता नीतीश कुमार से संवाद स्थापित करना चाहिए। पार्टी में खुलापन होना चाहिए लेकिन संवादहीनता की भी गुंजाइश नहीं होनी चाहिए। नीतीश कुमार के वापस बीजेपी के साथ आने के सवाल पर केसी त्यागी ने कहा कि हम लोगों ने बीजेपी से अपने आपको अलग किया है। अटल बिहारी वाजपेई और आडवाणी जी का स्थापित कार्यक्रम जो था उससे बीजेपी अलग हुई है और काफी आगे चली गई है। जो सवाल हमने अटल जी के नेतृत्व में दफन किए थे वह मुंह बाए खड़े हैं।

इससे पहले जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह भी उपेंद्र कुशवाहा के बयानों की हवा निकालचुके हैं। सोमवार को ललन सिंह ने कहा  कि उनकी पार्टी का कोई भी नेता भाजपा के संपर्क में नहीं है।  अगर उपेंद्र कुशवाहा संपर्क में रहने की बात कह रहे हैं तो इसका जवाब भी वहीं देंगे कि वह किसके बारे में बोल रहे हैं। ललन सिंह ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा क्यों नाराज हैं, यह वह ही बतायेंगे। पार्टी ने उन्हें पूरा सम्मान दिया है। जब भी मुलाकात का समय मांगा, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तुरंत उन्हें दिया। उपेंद्र कुशवाहा ने कोई बात बतायी है तो तुरंत उसका निराकरण किया गया है।  ललन सिंह ने कहा कि हमलोगों ने तो पूरी मजबूती के साथ उपेंद्र कुशवहा का साथ दिया। जब-तक वह हैं। पर, वह मजबूती से पार्टी के साथ हैं या नहीं, यह तो उन्हीं से पूछिए। ललन सिंह ने कहा कि जेडीयू का सदस्यता अभियान चला तो 75 लाख सदस्य बने। 75 लाख की सदस्यता में उपेंद्र कुशवाहा का क्या योगदान है, इसका मूल्यांकन उन्हें भी करना चाहिए। 

इससे पहले नीतीश कुमार भी उपेंद्र कुशवाहा पर अपनी तल्खी जाहिर कर चुके हैं। मीडिया जब भी नीतीश कुमार से उपेंद्र कुशवाहा के बयान पर सवाल करती है तो वह सीधा और सहज जवाब नहीं देते। पिछले दिनों नीतीश मीडिया को कह चुके हैं कि उनसे कहिए मुझसे बात करें। कहा कि तीन बार जा चुके हैं, सब स्वतंत्र है। सोमवार को भी नीतीश कुमार ने उपेंद्र कुशवाहा पर सवाल को हंसकर टाल दिया और कहा कि वह जो कह रहे हैं वही छापिए।
 

Source : Agency