छतरपुर
 बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र शास्त्री को जान से मारने की धमकी मिली है। बताया जा रहा है कि एक फोन कॉल में धीरेंद्र शास्त्री को धमकी मिली है। पुलिस ने इस संबंध में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर इन दिनों छत्तीसगढ़ के रायपुर में हैं।

बमीठा थाने में केस दर्ज

जानकारी के मुताबिक, धीरेंद्र शास्त्री को एक अज्ञात फोन कॉल कर धमकी दी गई है। छतरपुर के बमीठा थाने में धीरेंद्र शास्त्री के छोटे भाई लोकेश गर्ग की ओर से अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। धीरेंद्र का अभी रायपुर में दिव्य दरबार चल रहा है।

आरोपी की तलाश कर रही पुलिस

छतरपुर के एसपी सचिन शर्मा ने केस दर्ज किए जाने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि आरोपी का नाम अमर सिंह है। थाना बमीठा में धारा 506, 507 के अंतर्गत अमर सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है।

श्याम मानव को मिली थी धमकी

इससे पहले, धीरेंद्र शास्त्री को चुनौती देने वाले अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के श्याम मानव को भी जान से मारने की धमकी मिल चुकी है। धमकी मिलने के बाद उनकी सुरक्षा को और बढ़ा दिया गया है। श्याम मानव ने धीरेंद्र शास्त्री पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था।
श्याम मानव की सुरक्षा बढ़ाई

उधर, बागेश्वर धाम धीरेंद्र शास्त्री पर आरोप लगाने वाले और चैलेंज देने वाले अखिल भारतीय अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के उपाध्यक्ष श्याम मानव की सुरक्षा अचानक बढ़ा दी गई है. श्याम मानव को पहले भी सुरक्षा दी जाती थी. महाराष्ट्र की स्पेशल प्रोटेक्शन यूनिट के हथियारबंद 2 जवान उनकी सुरक्षा में होते थे. बावजूद इसके अब श्याम मानव की सुरक्षा और बढ़ा दी गई है. अब श्याम मानव के साथ 2 SPU के जवान समेत 2 गनमैन और 4 पुलिस कर्मचारियों के साथ एक अधिकारी भी मौजूद रहेगा. यह सुरक्षा श्याम मानव को लगातार मिल रही जान से मारने की धमकी के बाद दी गई है.

आपको बता दें कि श्याम मानव नागपुर के रवि भवन (सरकारी आवास) में पिछले कई दिनों से रुके हुए हैं. यहीं से वह बागेश्वर महाराज धीरेंद्र शास्त्री पर आरोप-प्रत्यारोप कर चैलेंज दे रहे हैं.   सुरेश भट सभागृह में श्याम मानव के हुए कार्यक्रम के दौरान भी कुछ लोगों ने हंगामा किया था. उसके बाद मिली धमकी के बाद सुरक्षा के मद्देनजर उन्हें और भी सुरक्षा दी गई है.

क्या है पूरा मामला?

गौरतलब है कि बागेश्वर धाम सरकार के नाम से विख्यात हो चुके छतरपुर जिले (मध्य प्रदेश) के गढ़ा गांव निवासी धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री इन दिनों सुर्खियों में बने हुए हैं. दरअसल, महाराष्ट्र के नागपुर में अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर एक कार्यक्रम के दौरान चमत्कार करने के नाम पर अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगाया गया था. इसको लेकर पुलिस को केस दर्ज करने की दरख्वास्त दी गई थी.  

इस समिति के उपाध्यक्ष श्याम मानव का दावा था कि धीरेंद्र शास्त्री एफआईआर के डर से दो दिन पहले ही कथा को समाप्त कर नागपुर से चले गए. इसके बाद से बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के पक्ष और विपक्ष में सोशल मीडिया से लेकर टेलीविजन जगत में बहस छिड़ गई.

उधर, धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने अपनी सफाई में कहा कि बागेश्वर धाम पर होने जा रहे एक बड़े उत्सव के चलते वह अपनी प्रस्तावित तीन कथाओं में से 2-2 दिन कम कर रहे हैं. बता दें कि नागपुर के बाद उनकी कथा छत्तीसगढ़ के रायपुर में आयोजित हो रही है. यहां भी शास्त्री ने मीडिया के सामने चमत्कार दिखाने का दावा किया. 

Source : Agency