इंदौर

देशभर में साइबर क्राइम के मामले बढ़ते जा रहे हैं। भविष्य की सबसे बड़ी चुनौती के रूप में खड़े हो रहे साइबर क्राइम को रोकने का एकमात्र तरीका जागरूक रहना है। सरकार और प्रशासन लोगों को जितना जागरूक करते हैं अपराधी उतने ही नए तरीके तलाश लेते हैं। इसलिए जागरूकता से ही इन अपराधों से बता जा सकता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए दुनिया के सबसे स्वच्छ शहर ने अब अपने शहरवासियों के साथ देशभर को साइबर क्राइम के खिलाफ जागरूक करने का बीड़ा उठाया है।


इंदौर के महापौर पुष्यमित्र भार्गव के निर्देशन में साइबर मित्र टीम बनी है जो इस काम को संभालेगी। सोमवार को सिटी बस कार्यालय में इसका सेमिनार हुआ। इस आयोजन में बड़ी संख्या में सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर के साथ स्टूडेंट्स, पैरेंट्स, आम नागरिक और साइबर क्राइम एक्सपर्ट मौजूद रहे।


यह है रणनीति
अमर उजाला से बातचीत में इस अभियान के कोआर्डिनेटर एडवोकेट रोहित जैन ने  जरूरी जानकारियां दी। उन्होंने बताया कि सरकार और प्रशासन अपने स्तर पर लगातार वेब स्टोरी, ग्राफिक, फोटो आदि कंटेंट तैयार करवाएगा। यह कंटेंट उन सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर को दिया जाएगा जिनके देशभर में लाखों फॉलोअर्स हैं। उनके माध्यम से यह जरूरी जानकारियां देश और दुनिया तक पहुंचेंगी।

देशभर में मिसाल बनेगा इंदौर
महापौर पुष्यमित्र भार्गव ने कहा कि इंदौर शहर को साइबर सेफ बनाने का इनिशेटिव है। इस जागरूकता अभियान के लिए एडवोकेट रोहित जैन, एडवोकेट प्रेरित सेन, सन्नी वाधवानी और साइबर एक्सपर्ट अक्षय कुमार ने सभी को एक मंच पर एकत्रित किया है। महापौर ने कहा की हम ऐसे फेस हैं जो पब्लिक के बीच में जा रहे हैं और छोटी से छोटी जानकारी पब्लिक में शेयर करते हैं लेकिन इसके लिए हमें जागरूक रहने की जरूरत है। महापौर ने कहा साइबर का रेसीडेंशियल रेग्युलर डिप्लोमा किया था। आज उस बात को बीस वर्ष हो गए हैं और साइबर से संबंधित गतिविधियां हो या अपराध दोनो में तेजी से इजाफा हुआ है। वर्तमान में सभी को अपडेट रहने की जरूरत है। इंदौर स्मार्ट सिटी है, देश में सबसे स्वच्छ शहर है लेकिन अब इंदौर को सेफ इंदौर बनाना है।

Source : Agency