डिलीवरी के बाद हर मां को 6 महीने तक अपने बेबी को बेस्टफीडिंग करवाना जरूरी होता है। यह मां और बच्चे दोनों की सेहत के लिए आवश्यक है। एक ब्रेस्टफीडिंग मदर जो कुछ भी खाती-पीती है, वो सब दूध के जरिए बेबी को मिलता है। यही वजह है कि स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को अपनी डाइट का खास ख्याल रखना पड़ता है। कुछ ब्रेस्टफीडिंग मदर अल्होकल का सेवन करना चाहती हैं और उनके मन में यह सवाल होता है कि क्या बच्चे को दूध पिलाने के दौरान वो शराब का सेवन कर सकती हैं?

एक्सपर्ट कहती हैं कि डिलीवरी के बाद पहले तीन महीनों में अल्कोहल से बिलकुल दूर रहना चाहिए। आप जो भी अल्कोहल पिएंगी, वो सीधा ब्रेस्टमिल्क के जरिए आपके बेबी तक पहुंच जाएगी। डॉक्टर शराब से बिलकुल दूर रहने के लिए कहती हैं।

आपके न्यूबॉर्न बेबी का लिवर अभी भी इमैच्योर होता है। इसका मतलब है कि उसका लिवर अल्कोहल को आपकी तरह प्रोसेस नहीं कर पाएगा। तीन महीने के बेबी की अल्कोहल को प्रोसेस करने की क्षमता आपकी तुलना में आधी होती है। ब्रेस्टमिल्क में अल्कोहल होने से आपके शिशु का विकास भी प्रभावित हो सकता है।

कब तक करवानी है ब्रेस्‍टफीडिंग
ब्रेस्टफीडिंग तक बेस्ट काम करती है, जब आप अपने बेबी को भूख लगने या उसकी डिमांड के हिसाब से दूध पिलाती हैं। हो सकता है कि आपके बेबी को 6 महीने से ज्यादा समय तक ब्रेस्टमिल्क की जरूरत हो, इसलिए जब तक आप बच्चे को दूध पिला रही हैं, तब तक अल्कोहल से दूरी बनाकर रखें।

आपका वजन और चाहे आपने खाया हो या कोल्ड ड्रिंक ली हो, यह इस बात को प्रभावित कर सकता है कि आपके शरीर से शराब को निकालने में कितना समय लगता है।

कितनी देर तक रहती है अल्‍कोहल
रक्त वाहिकाओं में अल्कोहल की मात्रा इसे पीने के 30 से 90 मिनट तक सबसे ज्यादा रहती है। अगर आप एंटीबायोटिक ले रही हैं, तो हो सकता है कि अल्कोहल आपकी रक्त वाहिकाओं से और धीमी गति से निकले। इसलिए इस समय के दौरान तो बेबी को ब्रेस्टफीडिंग बिलकु ना करवाएं।

अगर बेबी ब्रेस्ट मिल्क के साथ अल्कोहल पी ले तो?
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के अनुसार ब्रेस्ट मिल्क में अल्कोहल की मॉडरेट मात्रा शिशु के विकास, ग्रोथ और स्लीप पैटर्न को डैमेज कर सकती है। मॉडरेट लेवल से ज्यादा शराब पीने से मां को बेबी को संभालने में दिक्कत आ सकती है और बेबी को चोट लगने का खतरा रहता है।

ब्रेस्ट मिल्क तक कितनी अल्कोहल जाती है?
नेशनल इंस्टी्यूट ऑफ अल्कोहल एब्यूज एंड अल्कोहोलिज्म के अनुसार आमतौर पर मां द्वारा शराब पीने पर उसकी 2 पर्सेंट से कम अल्कोहल की खुराक दूध और खून में पहुंचती है। अल्कोहल ब्रेस्ट मिल्क में स्टोर नहीं होती है लेकिन खून में रहती है। इसका मतलब है कि जितनी देर तक खून में अल्कोहल रहेगी, वो मां के दूध में भी मौजूद रहेगी।

Source : Agency