इंदौर
 जिला कोर्ट परिसर में बगैर मास्क घूम रहे लोगों पर चालानी कार्रवाई करने पहुंचे निगमकर्मियों को लोगों ने जमकर पीट दिया। आरोप है कि निगमकर्मी बदसलूकी कर रहे थे। उन्होंने खुद मास्क नहीं पहना था और वे लोगों का वीडियो बना रहे थे। निगमकर्मी न तो पर्याप्त ड्रेस में थे न ही उन्होंने नेम प्लेट लगा रखी थी। हंगामा होता देख तदर्थ समिति के संयोजक और अन्य सदस्य मौके पर पहुंचे और समझाइश देकर विवाद खत्म किया।

निगमकर्मियों पर लगातार आरोप लग रहे हैं कि वे खुद कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे और गाइडलाइन के उल्लंघन के नाम पर जबरन चालानी कार्रवाई करते हैं। सोमवार दोपहर करीब 12 बजे कुछ निगमकर्मी जिला न्यायालय परिसर चालानी कार्रवाई करने पहुंच गए। उन्होंने लोगों से बदसलूकी करते हुए वीडियो बनाना चालू कर दिया। उन्हें ऐसा करता देख मौजूद लोगों ने विरोध किया और निगमकर्मियों से झूमाझटकी कर दी। इस बीच तदर्थ कमेटी संयोजक एडवोकेट कमल गुप्ता को हंगामे की जानकारी लगी। वे तुरंत मौके पर पहुंचे और समझाइश देकर विवाद खत्म कराया। आरोप है कि निगमकर्मियों ने कुछ वकीलों से भी बदसलूकी की थी।

समझाइश दे दी थी

नगर निगम के मस्टरकर्मी कार्रवाई के नाम पर जिला कोर्ट परिसर आए थे। न तो वे पर्याप्त ड्रेस कोड में थे न ही उन्होंने नेमप्लेट लगा रखी थी। जिला कोर्ट में सभी वकील मास्क पहनकर ही काम कर रहे हैं। निगमकर्मियों ने कुछ पक्षकारों से बदसलूकी की थी जिसका वकीलों ने विरोध किया। अभिभाषकों और न्यायिक कर्मचारियों ने मिलकर हंगामा शांत करवा दिया।

Source : Agency