पटना
शव यात्रा के दौरान हुई फायरिंग में गोली लगने से आठ वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। यह घटना राजधानी पटना के खुसरूपुर थाना क्षेत्र के बड़ा हसनपुर गांव में गुरुवार की सुबह करीब दस बजे हुई। वारदात के बाद मौके से आरोपित भाग निकले। जांच के दौरान पुलिस को एक खोखा मिला है, जिसे जब्त कर लिया गया है। घटना के बाद पूरे इलाके में मातमी सन्नाटा पसरा है। उधर, गांव में अफरातफरी के बीच ही जतन यादव की पत्नी और गोलू की दादी का शव गंगा किनारे पहुंचाकर अंतिम संस्कार कर दिया गया। बाद में ग्रामीण एसपी ने भी घटनास्थल पर पहुंच लोगों से पूछताछ की।

दादी के शव को निहार रहा था गोलू
घटना के संबंध में थानाध्यक्ष चंद्रभानु ने बताया कि बड़ा हसनपुर गांव निवासी जतन यादव की पत्नी की मौत के बाद उनकी शव यात्रा निकाली गई थी। लोग भजन-कीर्तन के साथ-साथ पटाखे भी छोड़ रहे थे। इस दौरान फायरिंग की गई। एक गोली शव यात्रा में शामिल सुबोध कुमार के पुत्र गोलू कुमार के सीने में लगी जो अपनी दादी के शव को निहार रहा था। जख्मी बच्चे को आनन-फानन में पीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां से उसे पटना रेफर कर दिया गया। बच्चे की मौत अस्पताल ले जाने के दौरान रास्ते में ही हो गई। बाद में पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए पटना भेज दिया। इधर, घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने मौके से एक खोखा बरामद किया है। पुलिस ने बताया कि अबतक पीड़ित परिजनों की ओर से एफआईआर दर्ज नहीं करायी गई है।  

फूट रहे पटाखों के बीच तड़तड़ाई गोलियां
बताया गया है कि शवयात्रा के दौरान ढोल नगाड़े बज रहे थे। इसी बीच गोलियां भी तड़तड़ाने लगीं। वजह शव उठाए जाते समय खुशी जताने के लिए एक साथ कई गोलियां दागी गईं, जिनमें एक गोली गोलू के सीने में जा लगी। गोली से घायल होकर गोलू के गिरते ही फायरिंग करने वाले आरोपित फरार हो गए। भगदड़ मचने के बाद मामला पुलिस तक पहुंच गया, लेकिन लोग मामले को रफा-दफा करने की कोशिश में जुटे रहे।

इकलौते बेटे की मौत से मचा कोहराम
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दादी की शवयात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल थे। गोलू भी आगे-आगे था। कुछ लोग थोड़ी-थोड़ी देर पर फायरिंग कर रहे थे। इसी बीच गोली लगने से गोलू जख्मी हो गया। वह माता-पिता का इकलौता पुत्र था। उसकी मौत से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।
 

Source : Agency