पटना
राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बेटे और हसनपुर से विधायक तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अब एक नई मुश्किल में फंस गए हैं। दरअसल जेडीयू (JDU) नेता ने तेज प्रताप यादव की विधायकी को चुनौती देते हुए पटना हाई कोर्ट (Patna High Court) ने एक याचिका दाखिल की। इस याचिका पर सुनवाई करते हुए पटना हाई कोर्ट ने तेज प्रताप को नोटिस जारी किया है। साथ ही याचिका में उठाए गए सवालों का जवाब दाखिल करने को कहा है। मिली जानकारी के अनुसार, न्यायमूर्ति वीरेंद्र कुमार की एकलपीठ ने 2020 के बिहार चुनाव में जेडीयू उम्मीदवार की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई की। जेडीयू उम्मीदवार ने याचिका में तेजप्रताप यादव पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने नामांकन पत्र के साथ अपनी संपत्ति का सही-सही पूर्ण विवरण नहीं दिया है। पटना हाईकोर्ट ने याचिका को सुनवाई के लिए मंजूर करते हुए तेज प्रताप यादव सहित सभी प्रतिवादी को निर्देश जारी किया है। साथ ही सुनवाई की अगली तारीख 8 अप्रैल तय की है। 

हसनपुर सीट से तेजप्रताप ने जीता चुनाव
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में समस्तीपुर जिले की हसनपुर विधानसभा सीट से आरजेडी के तेजप्रताप यादव ने जीत दर्ज की थी। हसनपुर विधानसभा सीट से महागठबंधन की ओर से राजद उम्मीदवार तेज प्रताप के अलावा जदयू से राज कुमार राय, पप्पू यादव की पार्टी जाप से अर्जुन प्रसाद यादव, लोजपा से युवा मनीष सहनी, आम अधिकार मोर्चा से दिलीप कुमार, राष्टीय जन विकास पार्टी के भानु पंडित मैदान में थे।
 

Source : Agency