अमरूद अपने स्वाद और लाभकारी गुणों के लिए भी जाना जाता है। यह पौष्टिकता से भरपूर है। यहां तक की लोग बीमारियों को दूर करने के लिए अमरूद को दवा के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं। लेकिन, इसे खाने के जितने ज्यादा फायदे हैं, उतने नुकसान भी हैं। ऐसे में इनके नुकसानों को जानना भी बेहद जरूरी है।

अन्य फलों की तरह अमरूद भी स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। लेकिन, इसके ज्यादा सेवन से आप कई बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार अमरूद तब नुकसान पहुंचाता है, जब या तो उसका सेवन जरूरत से ज्यादा किया जाए या फिर लोगों को इसे खाने का सही तरीका न पता हो। अमरूद में फाइबर की मात्रा बहुत होती है, जो पाचन से जुड़ी समस्याओं को जन्म दे सकती है। इसलिए अगर आप ज्यादा मात्रा में अमरूद खाएं, तो साथ में तरल पदार्थ का सेवन भी बढ़ा लें। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताते हैं अमरूद से होने वाले नुकसानों के बारे में

जिस व्यक्ति को अक्सर सर्दी-खांसी रहती है, उसे अमरूद खाने से बचना चाहिए। अमरूद की तासीर बहुत ठंडी होती है। इसके ज्यादा सेवन से सर्दी-खांसी और बढ़ सकती है।

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अधिक सेवन से फाइबर बढ़ता है, जो पाचन संबंधी समस्याओं का कारण बनता है।

यदि आप किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या से ग्रसित हैं, जिसमें पोटेशियम और फाइबर का सेवन न के बराबर करना हो, तो अपने आहार में इसे शामिल करने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह ले लें।

केवल अमरूद ही नहीं, इसके पत्तों का सेवन भी हानिकारक होता है। अमरूद के पत्तों से एनीमिया, सिर दर्द और किडनी की समस्या उभर सकती है।

अमरूद का ज्यादा सेवन आपको पेट संबंधी बीमारी दे सकता है। इससे आपके पांचन तंत्र पर बुरा प्रभाव पड़ता है और पाचन शक्ति कमजोर होने लगती है।

अमरूद के ज्यादा सेवन से पेट फूलने जैसी समस्या हो सकती है। दरअसल इस फल में चीनी पर्याप्त मात्रा में होती है, जिसे फ्रुकटोज के रूप में जाना जाता है। हमारे शरीर को फ्रुक्टोज को पचाने और अवशोषित करने में परेशानी होती है। ज्यादा मात्रा में इसके सेवन से पेट में सूजन और गैस बनने लगती है।


कई महिलाओं को पका हुआ अमरूद खाने में ज्यादा स्वादिष्ट लगता है, लेकिन पका हुआ या अधपका अमरूद खाने से दांत में दर्द या दांतों से जुड़ी कोई अन्य बीमारी हो सकती है।

अगर आपको अमरूद इतने ही पसंद हैं, तो ऑर्गेनिके अमरूद ही खाएं। क्योंकि अकार्बनिक अंगूर में लिस्टेरियोसिस जैसे संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है। खासतौर से यह कमजोर और गर्भवती महिलाओं के साथ नवजात शिशुओं को भी प्रभावित करता है।


अमरूद की पत्ती का अर्क भी एक्जिमा को बदतर बना सकता है। इनके पत्तों में ऐसे रसायन होते हैं, जो त्वचा पर जलन पैदा करने के लिए जिम्मेदार हैं। अगर आपका एक्जिमा गंभीर स्थिति में है, तो सावधानी के साथ ही अमरूद की पत्ती का अर्क इस्तेमाल करें।


डायबिटीज के मरीजों को अमरूद खाने से बचना चाहिए। अमरूद ब्लड शुगर को कम करता है। यदि आपको डायबिटीज है और आप अमरूद खाना चाहते हैं, तो इससे पहले बड़ी सावधानी के साथ अपने ब्लड शुगर की जांच कर लें।


आमतौर पर अमरूद की पत्ती का अर्क खाने से मतली या पेट दर्द की शिकायत हो सकती है। अगर आपको हर कभी त्वचा में जलन महसूस हो, तो अमरूद के सेवन से बचें। साथ ही अगर अमरूद ताजा न हो, तो इसे खाने के बाद एलर्जी हो सकती है।

Source : Agency