नई दिल्ली
देशभर में कोरोना ने अर्थव्यवस्था की कमर तोड़कर रख दी। राज्यों के भी कुछ ऐसे ही हालात है। कोरोना महामारी के खिलाफ तो देश में वैक्सीनेशन अभियान युद्धस्तर पर चल रहा है। वहीं अब अर्थव्यवस्था को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार अपना बजट भी उसी तरह से बनाने पर फोकस कर रही है। कोरोना संक्रमण के बीच दिल्ली का बजट सत्र 8 मार्च से शुरू होकर 16 मार्च तक चलेगा। कोरोना माहमारी के बीच केजरीवाल सरकार इस बार के बजट में स्वास्थ्य और शिक्षा पर ज्यादा फोकस कर सकती है। वहीं ट्रैफिक से लेकर दिल्ली में बढ़ रहे प्रदूषण को दूर करने के लिए इस बजट में कुछ खास की उम्मीद है, वहीं दिल्ली के अस्पतालों और चिकित्सा सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया जा सकता है। 

बजट सत्र से पहले मिली जानकारी के मुताबिक केजरीवाल सरकार का बजट पिछले वर्ष की तुलना में 40 प्रतिशत तक कम हो सकता है। केजरीवाल सरकार की नई योजना, अब 17 लाख लोगों के घर पहुंचेगा राशन आपको बता दें कि इससे पहले केजरीवाल सरकार ने 65000 करोड़ रुपये 2020-21 का बजट बनाया था। केजरीवाल सरकार ने बजट में हर बार बढ़ोतरी की है, लेकिन इस बार बजट के कम रहने की संभावना है। 

Source : Agency