लखनऊ 
विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से दो समिति बनाए जाने के आदेश जारी किए गए हैं। इनमें, एक समिति कॉलेजों की जांच करेगी। वहीं, दूसरी समिति जिन कॉलेजों ने रिपोर्ट नहीं दी उनपर कार्रवाई की प्रक्रिया को आगे बढ़ाएगी। लखनऊ विश्वविद्यालय के 70 डिग्री कॉलेजों को नोटिस जारी कर दिया है। बीते दिनों हुई एकेडमिक ऑडिट में इनके शामिल न होने के चलते यह कार्रवाई की गई है। 

एक समिति में प्रो. पूनम टंडन के साथ डॉ. अरुण सेठी और डॉ. केसी पाण्डेय शामिल हैं। वहीं, दूसरी में प्रो. निशी पाण्डेय के साथ प्रो. दिनेश कुमार और संजय मेधावी को रखा गया है।  बता दें, राजधानी में संचालित कॉलेजों की स्थितियों को परखने के लिए लखनऊ विश्वविद्यालय ने एकेडमिक ऑडिट की व्यवस्था लागू की थी। इसके तहत कॉलेजों में संचालित पाठ्यक्रम और सीटों के सापेक्ष शिक्षकों की संख्या से लेकर अन्य संस्थानों का ब्योरा मांगा गया था।  यह पहली बार है जब कॉलेजों के खिलाफ इतने बड़े स्तर पर कार्रवाई और जांच की गई है। जानकारों की मानें तो, बीते दिनों वाणिज्य विभाग के प्रो. अवधेश कुमार ने डीन कॉलेज डेवेलपमेंट काउंसिल की जिम्मेदारी संभाली है। उसके बाद से ही लगातार कॉलेजों के स्तर को बेहतर बनाने के प्रयास तेज हुए हैं। यह पहली बार है कॉलेजों में इतने बड़े स्तर पर सुधार की कवायद शुरू की गई है। 

Source : Agency