पन्ना
प्रदेश में तमाम प्रयासों के बावजूद रिश्वत का खेल रुक नहीं रहा है। सरकारी दफ्तरों में भ्रष्टाचार के मामले रोजाना सामने आ रहे हैं। ताजा मामला पन्ना जिले का है जहां अजयगढ़ के तहसीलदार उमेश तिवारी को बुधवार सुबह लोकायुक्त ने एक लाख की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। तहसीलदार के खिलाफ पीड़ित ने जमीन के हस्तांतरण के लिए रिश्वत मांगने की शिकायत सागर लोकायुक्त से की थी।

पीड़ित अंकित मिश्रा ने अपनी शिकायत में बताया कि उनका प्लाट वैध है। फिर भी तहसीलदार तहसीलदार ने उस पर स्टे लगा दिया और नामांतरण के लिए एक लाख की रिश्वत मांगी। पीड़ित ने अपनी खराब माली हालत का हवाला देते हुए तहसीलदार से बार-बार मिन्नतें की, लेकिन वे रिश्वत लिए बिना नामांतरण के लिए राजी नहीं हुए। इससे परेशान होकर उसने सागर लोकायुक्त में शिकायत की जिस पर बुधवार सुबह कार्रवाई की गई।

Source : Agency