बलिया  
उत्तर प्रदेश के बलिया हत्याकांड में बलिया के भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह खुलकर आरोपी के बचाव में उतर आए हैं। मामला हत्या से आगे बढ़कर अब जाति के मसले तक पहुंच गया है। विधायक सुरेंद्र सिंह ने अखिलेश यादव के ट्वीट पर पलटवार करते हुए कहा कि अखिलेश यादव के राज में इस तरह की घटना होती तो पुलिस पूछने तक नहीं जाती।

उन्होंने एक पुरानी घटना का ज़िक्र करते हुए अखिलेश यादव पर निशाना साधा और कहा, "हेमंतपुर गांव में जब प्रमोद यादव ने जोगिंदर सिंह को गोली मार दी थी, तब पुलिस ने कुछ क्यों नहीं किया था। तब सरकार ने कोई कर्रवाई नहीं की। इसी तरह से साधु सिंह की हत्या भी किसी यादव ने ही कर दी थी, तब अखिलेश ने ट्वीट क्यों नहीं किया था। अखिलेश यादव यदि तुमको यादव प्रिय है, तो सुरेंद्र सिंह को भी क्षत्रिय प्रिय है। जरूरत पड़ी तो मैं राजनीति भी छोड़ सकता हूं।" 

इससे पहले भी भाजपा विधायक आरोपी धीरेंद्र के बचाव नें बयान दे चुके हैं। उनका कहना था कि घटना बहुत ही परेशान करने वाली है, यह नहीं होनी चाहिए थी लेकिन मैं प्रशासन की एकतरफा जांच की निंदा करता हूं। घटना में घायल हुई छह महिलाओं के दर्द को कोई नहीं देख रहा है। धीरेंद्र सिंह ने यह फायरिंग आत्मरक्षा में की थी।

अखिलेश यादव ने क्या कहा था?

इससे पहले इस मामले पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा है कि बलिया कांड से उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था का सच सामने आ गया है। उन्होंने ट्वीट किया, "बलिया में सत्ताधारी भाजपा के एक नेता के एसडीएम और सीओ के सामने खुलेआम, एक युवक की हत्या कर फरार हो जाने से उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था का सच सामने आ गया है। अब देखें क्या एनकाउंटर वाली सरकार अपने लोगों की गाड़ी भी पलटाती है या नहीं।'

आपको बता दें कि यूपी के बलिया में पुलिस के सामने हुई गोलीबारी में मारे गए जयप्रकाश के परिवार से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को फोन पर बातचीत की। उन्हें हर संभव मदद और न्याय दिलाने का भरोसा दिया। सपा का एक प्रतिनिधिमंडल भी शनिवार को पीड़ित परिवार से मिलने जाएगा। अखिलेश ने इलाके के सपा नेता के मोबाइल फोन से जयप्रकाश के बड़े भाइयों चंद्रमा पाल और सूरज पाल से बातचीत की। अखिलेश ने परिवार को सांत्वना देते हुए कहा कि आप  लोग हिम्मत रखना, हम लोग आपके साथ हैं। परिवार को न्याय दिलाने में पार्टी मदद करेगी।

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि बलिया जिले के रेवती क्षेत्र में गुरुवार को कोटा आवंटन को लेकर हो रही खुली बैठक के दौरान ही एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। उसे ताबड़तोड़ चार गोलियां मारी गई। पुलिस के सामने ही हुई वारदात से सनसनी फैल गई। अफरातफरी के बीच विवाद और मारपीट में कई लोग घायल भी हुए हैं। इस मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है। 

Source : Agency