लंदन
टेनिस इंटिग्रिटी यूनिट (टीआईयू) ने प्रदर्शनी टूर्नमेंट के आयोजन में 24 संदिग्ध मैचों पर चिंता व्यक्त की है जबकि कोरोना वायरस महामारी के चलते पुरूष और महिला टूर बंद हैं। टीआईयू खेल में मैच फिक्सिंग के मामलों की जांच करती है, उसने  कहा कि उसे अप्रैल और जून के बीच आयोजित किये गए निजी टूर्नमेंट के मैचों की रिपोर्ट मिली है।

यह रिपोर्ट सट्टेबाजी करने वाली कंपनियों द्वारा दायर की गई हैं जो मैचों के दौरान असामान्य सट्टेबाजी पैटर्न पर नजर रखती है। हालांकि संदिग्ध सट्टेबाजी पैटर्न का मतलब जरूरी नहीं है कि मैच फिक्स किया गया था लेकिन अगर खिलाड़ी के चोटिल होने की अंदरूनी खबर बाहर आती है तो भी इसी तरह का पैटर्न देखने को मिलता है।

टीआईयू की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘लॉकडाउन के दौरान टेनिस में संदिग्ध सट्टेबाजी को पक्के संकेत के रूप में देखा जा रहा है कि भ्रष्टाचारी सक्रिय बने हुए हैं और जब अगस्त में पेशेवर टेनिस बहाल होगा तो उनके खेल पर अपना ध्यान बढ़ाने की संभावना है।’

Source : Agency