रीवा
रीवा कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने एक सप्ताह में दर्जन भर अधिकारियों के निलंबन और कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं। उन्होंने रीवा जिले के खंड पंचायत अधिकारी त्योंथर बीएल मांझी और पंचायत समन्वय अधिकारी रामचंद्र सिंह व सचिव बरहा पंचायत जनपद त्योंथर को कोविड 19 को लेकर सुरक्षा प्रबंध करने में लापरवाही और बाहर से आए मजदूरों को सुविधा न देने पर निलंबित किया गया था। इसके  साथ ही इसी जनपद के सीईओ को निलंबित करने की भी कार्यवाही की गई थी। इसके बाद पिछले तीन दिन में आधा दर्जन से अधिक प्राचार्य, कार्यपालन यंत्री पीएचई और अन्य विभागों के अफसरों को शो काज नोटिस जारी किए गए हैं।

जिन अधिकारियों को एक सप्ताह में नोटिस देकर दो वेतनवृद्धि रोकने की कार्यवाही के लिए कहा गया है उसमें जनपद पंचायत रायपुर कर्चुलियान के ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के तत्कालीन सहायक यंत्री वर्तमान मे जनपद पंचायत रीवा के सहायक यंत्री अनिल तिवारी एवं तत्कालीन उप यंत्री एवं वर्तमान में जिला देवास के जनपद पंचायत कंनौर की उपयंत्री स्वाती कोटकर, रीवा जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री शरद सिंह के नाम शामिल हैं। रीवा जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में बिगड़े हैण्डपंपों की मरम्मत तथा पेयजल उपलब्ध कराने में लापरवाही बरतने पर सिंह को नोटिस मिला है। साथ ही मुख्य कार्यपालन अधिकारी जवा जनपद पंचायत अखिल सहाय श्रीवास्तव को दो वार्षिक वेतन वृद्धियां रोकने का नोटिस मिला है। इनके कार्यालय के निरीक्षण में गड़बड़ी मिली थी। रीवा जिले के सिरमौर के खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. एसएन पाण्डेय को कारण बताओ नोटिस जारी कर 10 दिवस में जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं।

Source : Agency