ब्रासीलिया
कोरोना वायरस के प्रकोप बेहाल ब्राजील अब रूस को पीछे छोड़ते हुए कोविड-19 महामारी से संक्रमित लोगों के मामलों में दूसरे नंबर पहुंच गया है। ब्राजील में हालात इतने खराब हैं कि सड़कों पर 30 घंटे तक लाश पड़ी रही लेकिन उसे उठाने कोई नहीं आया। ब्राजील में शुक्रवार को 20,803 नए मामले सामने आए जिससे कुल संक्रमित लोगों की संख्‍या अब बढ़कर 3,30,890 हो गई है।

रियो डी जेनेरो शहर में 62 वर्षीय वलनिअर डी सिल्‍वा की कोरोना वायरस से मौत हो गई लेकिन शव को कार पार्किंग के बीच पाया गया। करीब 30 घंटे तक उनकी लाश पड़ी रही लेकिन उन्‍हें उठाने कोई नहीं आया। इस दौरान कई लोग वहां से गुजरे लेकिन किसी ने लाश की सुध नहीं ली। स्‍थानीय लोगों ने बताया कि जब सिल्‍वा को सांस लेने में दिक्‍कत हुई तो उन्‍होंने एंबुलेंस बुलाई थी लेकिन उनकी हालत बिगड़ती गई और मौत हो गई।

इसके बाद सिल्‍वा के साथ और भी ज्‍यादा बुरा हुआ। एंबुलेंस वालों ने उनकी लाश को सड़क पर रख दिया और चले गए। उनका कहना था कि यह उनकी जिम्‍मेदारी नहीं है कि लाशों को हटाए जाए। सिल्‍वा के परिवार ने अगले दिन पुलिस अधिकारियों से संपर्क किया लेकिन उन्‍होंने शव को हटाने से मना कर द‍िया। पुलिस विभाग ने कहा कि वह केवल आपराधिक मामलों में ही लाशों को हटाता है।

30 घंटे बाद अंतिम संस्‍कार करने वाली टीम ने शव को हटाया
करीब 30 घंटे बाद अंतिम संस्‍कार करने वाली टीम आई और उनके शव को हटाया गया। इस दुखद अनुभव से सिल्‍वा का परिवार अब बुरी तरह से टूट गया है। ब्राजील में कोविड-19 संक्रमण के कुल 3,30,890 मामले सामने आए हैं। यहां संक्रमण के मामले रूस से अधिक है, जो कि जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के मुताबिक विश्व में संक्रमण के सर्वाधिक मामलों वाला दूसरा देश है।

ब्राजील में बीते 24 घंटे में 1,001 संकमित मरीजों की मौत हुई जिससे कोविड-19 से मरने वालों की कुल संख्या 21,000 हो गई। इस लातिन अमेरिकी देश में संक्रमण का प्रकोप बहुत अधिक है। इस बीच यहां यह बहस चल रही है कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में ढील दी जाए या फिर और सख्त पाबंदियां लगाई जाए। रियो डी जेनेरियो के मेयर ने कहा कि वह चाहते हैं कि अगले कुछ दिनों में गैर जरूरी सामान की दुकानों को धीरे-धीरे खोला जाए।

Source : Agency