बॉलिवुड ऐक्टर अनुपम खेर सोशल मीडिया पर बेहद ऐक्टिव रहते हैं। हालांकि कई बार वह अपने लिखे को लेकर ट्रोल भी हो जाते हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है। प्रवासी मजदूरों के दुख को उन्होंने कविता के जरिए साझा करने की कोशिश की। इसके लिए सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी डाला। पर, यहीं से वह ट्रोल हो गए। यूजर्स ने उन्हें ढोंग बंद करने और सरकार से सीधे सवाल करने के लिए नसीहत तक दे डाली।

दरअसल, लॉकडाउन के कारण बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर बड़े शहरों से पैदल ही गांव के लिए पलायन कर दिए हैं। अनुपम खेर ने ऐसे ही मजदूरों के दुख को सामने लाने के लिए एक वीडियो शेयर किया, इसमें वह कविता पढ़ते दिखते हैं।

कविता में अनुपम ने यह लिखा
कविता में उन्होंने लिखा है, हो गया मजबूर इंसान दाने-दाने के लिए...चार कंधे भी नहीं अर्थी उठाने के लिए...छोड़कर आए पिछड़ा बोलकर जो गांव को ...किस कदर मजबूर हैं वो गांव जाने के लिए...वे हमें पानी पिलाने को भी राजी नहीं...खून बनाया है हमने जिनके कारखाने के लिए....मौत बस तू ही बची है अब आजमाने के लिए.....

लोग अनुपम पर बरस पड़े
एक मिनट 13 सेकंड के इस वीडियो में अनुपम खेर ने यूं तो प्रवासियों के दुख को शब्दों में बहुत सही तरीके से पेश किया है। पर, जहां मजदूर इतने मजबूर हैं, मजदूरों की स्थिति देखी नहीं जा रही, वहां इस कविता पर लोग अनुपम खेर पर बरस पड़े।

ऐसे निशाने पर लिया
एक यूजर ने लिखा, सरकार से सवाल करता कि उसने क्या किया इन गरीब मजदूरों के लिए, तब लोगों को लगता कि चिन्ता है इन गरीबों की। ये तो ढोंग है। एक अन्य यूजर ने लिखा, इस कविता के साथ मोदीजी को टैग करते तो हम मानते कि वास्तव में आपको मजदूरों की चिंता है।

Source : Agency