नई दिल्ली 

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज का कोरोना कनेक्शन सामने आने के बाद हड़कंप मचा है. इस पूरे मामले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने इस पूरी घटना की निंदा की है और कहा कि सब सारे मंदिर और मस्जिद बंद हैं तो फिर ऐसे हरकत क्यों हुई. उन्होंने बताया कि मरकज से 1500 लोगों को निकाला गया है. 12 मार्च को मरकज में देश-विदेश से लोग आए थे.

सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया कि मरकज में 12-13 मार्च के आसपास देश-विदेश से लोग एकत्रित हुए थे. इनमें काफी लोग चले गए और कुछ रुक गए. उन्होंने बताया कि मरकज से 1,548 लोगों को निकाला गया है. इनमें से 441 लोगों में कुछ लक्षण पाए गए हैं. इन्हें अस्पताल भेजा गया है और उनका टेस्ट हो रहा है.
 
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि 1107 लोग जिनमें किसी प्रकार को कोई लक्षण नहीं पाया गया उन्हें क्वारनटीन में भेज दिया गया है. कोरोना टेस्ट में 24 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. उन्हें भर्ती कराया गया है. सर्दी-जुकाम से पीड़ित 86 की हालत स्थिर है.
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग भी इसके लिए जिम्मेदार हैं, उन पर कार्रवाई होगी. दिल्ली सरकार ने इस केस में जिम्मेदारी लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए उपराज्यपाल को पत्र लिखा है. जो भी जिम्मेदार होगा उन पर सख्त कार्रवाई होगी.

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज का कोरोना कनेक्शन सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है. अब मरकज में आए लोगों की तलाश शुरू हो गई है. दिल्ली के बाद लखनऊ और बिजनौर में सर्च ऑपरेशन चलाया गया. दरअसल, दिल्ली में तबलीग जमात के मरकज में हुए धार्मिक आयोजन में शामिल हुए लोगों का कनेक्शन 19 राज्यों तक है. जमात में शामिल जो लोग लौटे वो देश के 19 राज्यों में फैले हैं. अब हर राज्य में इनकी तलाश कर क्वारनटीन किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि मरकज पर धार्मिक आयोजन के वक्त वहां 3 हजार से ज्यादा लोग मौजूद रहे.

Source : Agency