भोपाल

इंदौर में लगातार बढ़ती कोरोना संक्रमितों की संख्या के बाद कलेक्टर ने तीन दिनों तक टोटल लॉकडाउन करने का फैसला लिया है। इस दौरान बाहर निकलने वालों पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है । इसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का बड़ा बयान सामने आया है।नाथ का कहना है कि लॉकडाउन का सख्ती से पालन हो, लेकिन इंदौर में जिस प्रकार से दूध की सप्लाई को भी बंद करने का निर्णय लिया गया है वो बेहद ही आपत्तिजनक है।

कमलनाथ ट्वीट कर लिखा है कि शिवराज जी,प्रदेश में कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन का सख़्ती से पालन हो,इसमें किसी को गुरेज़ नहीं है लेकिन इंदौर में जिस प्रकार से दूध की सप्लाई को भी बंद करने का निर्णय लिया गया है वो बेहद ही आपत्तिजनक है।दूध-दवाई आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में आती है।

वही अगले ट्वीट में लिखा है कि देश भर में आवश्यक वस्तुओं पर कोई रोक नहीं है।इस निर्णय से उन बच्चों , बुजुर्गों , मरीज़ों का क्या होगा जो दूध पर ही आश्रित है ?उन पशु पालकों के बारे में भी सोचे , जो पूर्व से ही दोहरी मार झेल रहे है। जनहित में इस निर्णय को तत्काल बदला जावे।

बता दे कि इंदौर में कोरोना मरीजों की संख्या 32 हो गई है।रविवार के जारी बुलेटिन में 8 और कोरोना पॉजिटिव मिले है। इनमें से एक उज्जैन का निवासी है।

 

Source : Agency