लंदन
सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही नहीं, कोरोना वायरस को लेकर दुनिया के दूसरे देशों राष्ट्राध्यक्ष भी अपने नागरिकों से अपील कर रहे हैं कि वे घर से बाहर न निकलें. कोरोना वायरस से पीड़ित ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन अपने देश के 3 करोड़ परिवारों को पत्र लिखकर उन्हें आगाह कर रहे हैं कि वे अपने घर में ही रहें अन्यथा हालात बिगड़ सकते हैं. कोरोना पॉजिटव पाए गए बोरिस जॉनसन इन दिनों 'सेल्फ आइसोलशन' में हैं. उन्होंने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो कड़े प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं.

ब्रिटेन में 1000 से ज्यादा लोगों की मौत
ब्रिटेन में कोरोनो वायरस के कारण मरने वालों की संख्या अब 1,019 हो चुकी है. शनिवार को ही ब्रिटेन में कोरोना वायरस की वजह से 260 लोगों की मौत हुई है. यहां पर कोरोना के 17,089 कन्फर्म मामले सामने आए हैं.

दोस्तों से मिलकर हमें धोखा न दें
बोरिस जॉनसन ने कहा कि ये बेहद जरूरी है कि आप अपने दोस्तों से मिलकर हमें धोखा न दें. उन्होंने कहा कि घर से बाहर निकले की एकमात्र वजह जरूरी चीजों की खरीदारी होनी चाहिए. जॉनसन ने कहा कि लेकिन हम सही तैयारी कर रहे हैं, और जितना अधिक हम सभी नियमों का पालन करेंगे, उतनी कम मौतें होंगी और उतनी ही जल्दी जनजीवन सामान्य हो सकेगा. अपने पत्र में, जॉनसन ने महामारी को 'राष्ट्रीय आपातकाल के क्षण' के रूप में बताया, और जनता से जीवन बचाने के लिए घर पर रहने का आग्रह किया. उन्होंने डॉक्टरों, नर्सों और उन हजारों लोगों के काम की भी सराहना की जिन्होंने असहाय और कमजोर लोगों की स्वेच्छा से मदद की है.समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक 3 करोड़ पत्रों को छपवाने और उन्हें ब्रिटेन के हर घर में भिजवाने में 5.8 मिलियन पाउंड खर्च होंगे. 

Source : Agency