नई दिल्ली 
भारतीय ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह सोशल मीडिया में लोगों के निशाने पर आ गए हैं। रविवार को हरभजन ने अपने टि्वटर हैंडल से एक विडियो पोस्ट किया जिसके बाद वह लोगों के निशाने पर आ गए। हरभजन ने इस विडियो में शाहिद अफरीदी के फाउंडेश को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए मदद करने की अपील की है।हरभजन ने कहा, 'पूरी दुनिया में इस वायरस से पूरी दुनिया में कई जानें गई हैं। फिर चाहे मैं भारत की बात करूं। अमेरिका की बात करूं, पाकिस्तान की बात करूं। इटली, स्पेन सब जगह यह बीमारी लोगों को परेशान कर रही है। हम सब इनसानों को एकजुट होना चाहिए। एक दूसरे की मदद करनी चाहिए। मैं मुबारकबाद देना चाहूंगा शाहिद अफरीदी की फाउंडेशन को जिन्होंने बहुत अच्छा काम किया है इनसानियत के लिए। आप भी इस कैम्पेन का हिस्सा बन सकते हैं।' बस यही बात टि्वटर यूजर्स को पसंद नहीं आई। 

दरअसल, पाकिस्तान में कोरोना से लड़ने के लिए शाहिद अफरीदी ने टि्वटर पर एक कैंपेन चलाया हुआ है। इसकी शुरुआत उन्होंने की है और इसमें #DonateKarona कैंपेन के तहत उन्होंने तीन क्रिकेटरों को नॉमिनेट किया। अफरीदी ने इसमें लोगों को कोरोना से बचने के टिप्स शेयर करने की बात कही गई है। इसमें हर व्यक्ति को आगे तीन और लोगों को नॉमिनेट करना है। अफरीदी ने हरभजन सिंह, क्रिस जॉर्डन (इंग्लैंड) और पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर को टैग किया है। इस विडियो में हरभजन ने आगे कहा, 'मैं आप सबको यही कहना चाहूंगा कि आप घर पर ही रहिए और सरकार की हिदायतों को मानिए। साथ ही उन्होंने अवयनेस बढ़ाने के लिए तीन पूर्व क्रिकेटरों को नॉमिनेट किया। इनमें पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम, शोएब अख्तर के अलावा भारत के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह शामिल हैं।' 

हरभजन ने पहले भी शाहिद अफरीदी द्वारा लोगों की मदद करने की तारीफ की थी। उन्होंने कहा था कि अफरीदी बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का कहर अब पूरी दुनिया में फैल चुका है। चीन से लेकर अमेरिका तक इस बीमारी की चपेट में हैं। इस बीमारी से मरने वालों की संख्या दुनिया में 30 हजार का आंकड़ा पार कर चुकी है। वहीं 6 लाख से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। इटली में जहां 10 हजार से लोग इसकी चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं वहीं अमेरिका में संक्रमितों की तादाद 1 लाख के आंकड़े को पार कर चुकी है। भारत में भी यह 1000 के करीब पहुंच चुकी है। पाकिस्तान में भी संकमितों की संख्या 1000 से ज्यादा हो चुकी है। 

Source : Agency