औरंगाबाद
बिहार में कानून के रखवाले ही शराबबंदी (Liquor Ban) का माखौल उड़ा रहे हैं. ताजा मामला औरंगाबाद (Aurangabad) जिले का है जहां नशे में धुत्त पुलिसकर्मियों ने रफीगंज अंचलाअधिकारी (CO) से बदतमीजी करने के बाद उनके गार्ड से भी उलझ गए. इस मामले में तीन बीएमपी (BMP) जवानों को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि इन तीनों जवानों के अलावा एक अन्य जवान को निलम्बित कर दिया गया है.

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार की देर शाम सीओ अपने गार्ड के साथ लॉकडाउन को लेकर भ्रमणशील थे. इसी दौरान बीएमपी के कुछ जवान हाफ पैंट में पैदल घूमते हुए नज़र आये. उन्होंने जब पूछताछ की तो जवान अंचलाधिकारी तथा उनके गार्ड से बहस करने लगे. बीएमपी के जवानों ने न तो अपना परिचय दिया और न ही कुछ अन्य जानकारी दी. सीओ से बहस करने के बाद जवान गोह रोड स्थित अपने कैंप में पहुंचे और वहां से कुछ अन्य जवानों को साथ लेकर एक बार फिर वापस सीओ के पास आ गये.

इस दौरान सीओ के साथ भी उन जवानों ने गाली-गलौज शुरू कर दिया यहां तक कि मौजूद अंचलाधिकारी के गार्ड के साथ मारपीट की स्थिति उत्पन्न हो गई. मामले की सूचना तत्काल रफीगंज थानाध्यक्ष राजीव रंजन को दी गई जिसके बाद थानाधयक्ष भी दलबल के साथ वहां पहुंचे. उन्होंने बीच-बचाव का प्रयास किया लेकिन उनके साथ भी जवान उलझ गए. किसी तरह जवानों को शांत करा कर मामले को तत्काल खत्म कराया गया जिसके बाद इसकी सूचना एसपी को भी दी गई.

एसपी के निर्देश पर सार्जेंट मेजर अभय कुमार रफीगंज पहुंचे और यहां बीएमपी के कैंप में जवानों को कतारबद्ध कर उनसे विस्तृत पूछताछ की गई. इसी दौरान तीन जवान शराब के नशे में पाए गए. तीनों को तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद वरीय अधिकारियों के निर्देश पर तीनों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई. एक अन्य जवान को एसपी दीपक वर्णवाल के निर्देश पर सस्पेंड कर दिया गया है. एसपी दीपक वर्णवाल ने बताया कि शराब के नशे में जो जवान मिले हैं, उन्हें जेल भेजा जा रहा है. एक अन्य जवान को निलम्बित कर दिया गया है. फिलहाल इस मामले में प्राथमिकी दर्ज किये जाने की कार्रवाई की जा रही है.

Source : Agency