नोएडा 

चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया को जकड़ लिया है. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने 21 दिन के लिए देशव्यापी लॉकडाउन कर दिया है. इसके चलते लोगों का कामकाज बंद हो गया है और लोग घर के अंदर कैद हो गए हैं. इस लॉकडाउन का सबसे ज्यादा असर गरीब, मजदूर और आम आदमी पर देखने को मिल रहा है.
कामकाज बंद होने से इन लोगों के खाने के लाले पड़ गए हैं. हालांकि सरकार इन लोगों तक खाना पहुंचाने की कोशिश कर रही है. रविवार को नोएडा के सेक्टर- 66 स्थित ममूरा गांव में गरीबों और मजदूरों को चावल बांटा गया, जिसको लेने के लिए लोग कतारों में लग गए. ये लाइनें करीब एक किलोमीटर लंबी थीं.
 
इस दौरान किसी को न सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रहा और न ही प्रशासन ने इसके लिए कोई उचित व्यवस्था की. हालांकि चावल भी कुछ लोगों को ही मिला और बाकी लोगों को खाली हाथ वापस लौटना पड़ा. वहीं, लॉकडाउन के चलते कामकाज बंद होने के बाद काफी संख्या में लोग अपने घरों को निकल गए. वाहन नहीं मिलने पर कुछ लोग पैदल ही अपने घर के लिए निकल पड़े.

आपको बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है. हिंदुस्तान में अब तक 1020 से ज्यादा लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं, जिनमें से 27 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, दुनियाभर में कोरोना वायरस की चपेट में आने वालों का आंकड़ा 6 लाख 69 हजार से ज्यादा पहुंच चुका है, जिनमें से 30 हजार 900 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.
 
इस घातक वायरस की सबसे ज्यादा चपेट में इटली है, जहां पर कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 10 हजार से ज्यादा पहुंच चुकी है. इसके बाद दूसरे नंबर पर स्पेन है, जहां कोरोना वायरस से 5 हजार 900 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

Source : Agency