कोरोना वायरस का संक्रमण भारत में तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में लोगों को लॉकडाउन के जरिए घरों में ही रहने के निर्देश दिए जा रहे हैं। रेस्पिरेटरी सिस्टम से जुड़ी हुई बीमारी होने के कारण आपको अपने फेफड़े स्वस्थ बनाने के लिए कुछ योगासन का भी सहारा जरूर लेना चाहिए जो आप घर पर बैठकर बड़ी आसानी से कर सकते हैं।

दरअसल, फेफड़ों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए कुछ खास योगासन हैं और इन पर वैज्ञानिक रिसर्च भी हुआ है। इन योगासन को करने से आपकी श्वसन प्रणाली बेहतर होती है और आपके फेफड़े स्वस्थ बने रहते हैं।

​बितिलासन
इसे कॉउ पोज (Cow pose) के नाम से भी जाना जाता है। बितिलासन योग के जरिए भी फेफड़ों को स्वस्थ बनाया जा सकता है। दरअसल यह एक ऐसी योग मुद्रा होती है, जिसे करने के दौरान आपके शरीर की श्वास नलिकाओं में खिंचाव होता है और यह फेफड़ों को स्वस्थ रखने में मदद करती हैं। इसे आप रोजाना सुबह कर सकते हैं।

कैसे करें

    सबसे पहले किसी समतल जगह पर योग मैट बिछा लें।
    अब घुटनों और हाथों के बल इस पर बैठ जाएं।
    इस मुद्रा में आप छोटे बच्चे के चलने जैसी स्थिति में ही होंगे।
    अब अपने हाथों के बीच एक से डेढ़ फीट की दूरी रखें और पैरों के बीच 1 फीट की दूरी।
    अपनी गर्दन को ऊपर उठाते हुए आसमान की ओर देखने का प्रयास करें।
    अब इसी मुद्रा में कम से कम 10 से 15 सेकंड तक रहें है उसके बाद वापस प्रारंभिक मुद्रा में आ जाएं।
    इस योगासन को आप करीब 5 मिनट तक कर सकते हैं।

​​भुजंगासन
भुजंग का मतलब सांप होता है और यह योगासन की मुद्रा में आपको भी सांप जैसी स्थिति में आना पड़ता है। इसे कोबरा पोज के नाम से भी जाना जाता है। इस योगासन को करने से यह शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है और उसके साथ-साथ फेफड़े को स्वस्थ बनाए रखने में भी काम आ सकता है।

कैसे करें

    सबसे पहले योग मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
    ध्यान दें कि आपके पैर और आपके हाथ दोनों बिल्कुल सीधे होने चाहिए।
    अब अपने हाथों को हल्का सीने के पास ले आएं।
    हाथों पर जोर देते हुए सीने को उठाने का प्रयास करें।
    ध्यान दें कि आपका सिर सांप के फन की तरह सामने की ओर उठना चाहिए।
    अब जितना हो सके अपने सिर को आसमान की ओ उठाने का प्रयास करें।
    इस बात का ध्यान दें कि आपके पेट के नीचे से पैर तक का हिस्सा जमीन से ही जुड़ा रहेगा।
    करीब 15 सेकेण्ड तक इसी मुद्रा में रहने के बाद धीरे-धीरे प्रारंभिक मुद्रा में वापस आ जाएं।
    इस योग मुद्रा को करीब 5 मिनट तक किया जा सकता है।

​दंडासन
दंडासन के जरिए भी फेफेड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद मिल सकती है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फोर्मेशन के की ओर से जारी किए गए शोध में भी इस बारे में जानकारी दी गई है कि इस योगासन के जरिए फेफड़ों को स्वस्थ रखकर इन्हें स्वस्थ बनाए रखने में काफी मदद मिल सकती है। इस योगासन को शाम और सुबह दोनों समय में किया जा सकता है।

कैसे करें

    सबसे पहले योग मैट पर पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं।
    अब अपने दोनों पैर को सामने की और फैलाएं।
    ध्यान दें कि आपके पैर कमर से 90 डिग्री के कोण पर होंगे।
    अपने हाथों को जमीन में रखें।
    ध्यान दें कि हाथों की हथेली जमीन से सटी हुई होनी चाहिए और हाथ भी शरीर से ज्यादा दूर नहीं होने चाहिए।
    अब धीरे-धीरे सांस लेते रहें और इसी मुद्रा में कम से कम पांच मिनट रहें।
    इस योगासन को करीब 5 मिनट तक किया जा सकता है।

​शलभासन
शलभासन योग मुद्रा के जरिए भी फेफड़ों को स्वस्थ बनाया रखा जा सकता है। इस योगासन को करने से श्वसन प्रणाली मजबूत होती है और फेफड़े भी सक्रिय रूप से कार्य कर सकते हैं। इससे आपको रेस्पिरेटरी सिस्टम से जुड़ी हुई किसी भी प्रकार की बीमारी का खतरा कई गुना तक कम हो जाता है।

कैसे करें

    योग मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
    उसके बाद अब अपने दोनों हाथ को जांघों के नीचे रखें।
    अब अपने सिर को जमीन से ही चिपकाकर रखें।
    अब पैरों को पीछे की ओर से उठाएं।
    एक संतुलन की स्थिति बनाएं और इसी मुद्रा में करीब 10 सेकंड तक तक रहें।
    यह एक चक्र पूरा हुआ।
    इस योग प्रक्रिया को करीब पांच मिनट तक किया जा सकता है।

Source : Agency