पेइचिंग
करीब 3 महीने तक कोरोना वायरस की मार झेलने के बाद चीन के हुबेई प्रांत में ट्रैवल प्रतिबंधों को हटा लिया गया है। प्रतिबंधों के हटने के बाद हुबेई प्रांत में जब ट्रेन और बस सेवा शुरू हुई तो लोगों की भारी भीड़ नजर आई। सभी लोग अपने रिश्‍तेदारों, दोस्‍तों से मिलने के लिए बेकरार नजर आए। और होते भी क्‍यों नहीं, इतने लंबे समय बाद उन्‍हें आजादी से जीने का मौका जो मिला है।

हुबेई प्रांत के ही वुहान शहर में पहली बार कोरोना वायरस की शुरुआत हुई थी। इसके बाद आज यह वायरस 196 देशों में फैल चुका है। महामारी बन चुके इस वायरस की चपेट में आकर अब तक चीन में 3,287 लोगों की और पूरी दुनिया में 21 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है। इस महामारी को रोकने के लिए हुबेई में करीब 2 महीने तक बेहद सख्‍त तरीके तक लॉकडाउन रखा गया था।

चीनी प्रशासन ने वायरस मुक्‍त स्‍वस्‍थ लोगों के लिए ग्रीन हेल्‍थ कोड जारी किया है। इस कोड को पाने वाले लोगों को यात्रा करने के लिए अनुमति दे दी गई है। यात्रा की छूट मिलने के बाद बड़ी तादाद में लोग बुधवार को बसों और ट्रेनों से यात्रा करने पहुंचे। इनमें कई ऐसे थे जो काम पर रवाना हुए। हुबेई में अभी स्‍कूल बंद हैं लेकिन लोगों को काम पर लौटने की छूट दे दी गई है।

मेडिकल स्टाफ ने ली राहत की सांस
दरअसल, एक ओर जहां पूरी दुनिया लॉकडाउन हो रही है, चीन के हुबेई प्रांत से ट्रैवल बैन हटा दिया गया है। इस बैन के हटने से करीब 5 करोड़ लोगों को राहत है। एक डॉक्टर ने जश्न मनाते हुए कहा, 'हर दिन हमने गंभीर रूप से बीमार लोगों की संख्या कम होते हुए देखी, हालात सुधरने लगे और लोग अस्पताल से डिस्चार्ज होने लगे। डॉक्टर और नर्स हर दिन के साथ और ज्यादा राहत महसूस कर रहे हैं। मैं बहुत खुश हूं।' हालांकि, चीन में कोरोना वायरस से सबसे प्रभावित हुए वुहान को फिलहाल इस राहत के लिए इंतजार करना होगा। यहां 8 अप्रैल से लोगों को बाहर जाने की इजाजत होगी।

Source : Agency