इंदौर
इंदौर में फर्जी पासपोर्ट (Fake Passport) बनवाकर रहने वाले तीन बांग्‍लादेशी गिरफ्तार हुए हैं. आरोपी पहचान बदलकर ना सिर्फ इंदौर (Indore) में रह रहे थे बल्कि देह व्यापार और नकली नोट (Fake Currency) का धंधा भी चला रहे थे. इस गिरोह में दो महिलाएं भी शामिल हैं. जबकि पुलिस ने इस मामले में अब तक तीन बांग्‍लादेशी समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है और गिरोह के अन्‍य लोगों की तलाश जारी है.

दरअसल, बीते दिनों इंदौर के हीरा नगर थाने में एक महिला ने शिकायत की थी कि उसके पति अनिल का अपहरण हो गया है और उसकी रिहाई के लिए फिरौती की मांग की जा रही है. पुलिस ने जांच करते हुए दत्त नगर इलाके से अनिल को अपहरण कर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया था. साथ ही पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था और जब पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की तो उसके होश उड़ गए. गिरफ्तार चार आरोपियों में से तीन बांग्लादेश के रहने वाले हैं.

आरोपियों में से महिला और पुरुष का मुंबई में सम्पर्क हुआ था. महिला देह व्यापार के नेटवर्क से जुड़ी हुई थी, लेकिन दोनों कुछ दिन महाराष्ट्र में गुजारने के बाद इंदौर में आकर बस गए और मरीमाता इलाके में स्थिति एक कंप्यूटर ऑपरेटर से सम्पर्क करके फर्जी दस्तावेज तैयार करवा कर अपनी पहचान बदल ली. यही नहीं, दोनों ने अपने नकली नाम से पासपोर्ट बनवा लिया और इंदौर में रहकर देह व्यापार का काम संचालित करने लगे. जबकि नकली नोट छपवा कर भी बाजार में चलाने लगे. आरोपियों ने कबूल किया है कि वह मध्य प्रदेश के कई शहरों में नकली नोट खपाते थे. पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर कम्प्यूटर ऑपरेटर को आरोपी बनाते हुए कम्प्यूटर जब्त किया है. साथ ही मौके से बड़ी संख्या में नकली नोट और अन्य नकली दस्तावेज जब्त किए हैं. जबकि कम्प्यूटर ऑपरेटर ने कबूल किया है कि वह परिवहन कार्यालय में लाइसेंस बनवाने के लिए कई एजेंट को नकली दस्तावेज बनवाकर दिया करता था.

डीआईजी इंदौर रूचिवर्धन मिश्र के मुताबिक बीते दिनों हीरा नगर थाना इलाके में दर्ज हुए अपहरण के प्रकरण में जांच करते चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जिसमें से दो महिलाओं समेत कुल तीन की पहचान मूल रूप से बांगलादेशी के रूप में हुई. मामले में पड़ताल करने पर पता चला कि आरोपी यहां रह कर नकली नोट छाप कर मार्किट में खपाते है और देह व्यापार का नेटवर्क भी संचालित करते है. देह व्यापार संचालित करने के लिए महिलाओं को बांग्लादेश से ही बुलाते थे. पुलिस ने बांग्लादेशी आरोपियों के मददगार स्थानीय निवासी को भी गिरफ्तार किया है. इस प्रकार से कुल छह आरोपी अब तक पुलिस गिरफ्त में हैं. जबकि अन्य की तलाश भी की जा रही है. हालांकि अब तक इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि आरोपी अब तक कितनी वारदातों को अंजाम दे चुके हैं.

Source : Agency