पटना
औरंगाबाद जिले के करपी के दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक की करपी शाखा में दो करोड़ 19 लाख रुपये घोटाला का मामला उजागर हुआ है। इस मामले में आर्थिक अपराध इकाई की टीम ने जालसाजी,गबन और भ्रष्टाचार का एक मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 336 फर्जी लोन देकर घोटाला किया गया है। यह मामला वर्ष 2013 से लेकर 2015 के बीच का है।

दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय अधिकारियों की जांच में इसका खुलासा हुआ है। इस मामले में करपी शाखा के पूर्व ब्रांच मैनेजर नर्मदेश्वर प्रसाद को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। ब्रांच मैनेजर गया के रहने वाले हैं और रिटायर हो गए हैं। बैंक के अधिकारियों ने जांच में पाया कि अबतक 336 फर्जी लोन की पहचान की गई है, जिसमें 2 करोड़ 19 लाख रुपए करने का साक्ष्य मिला है। इसके अलावा 375 फर्जी खाता खोले गए हैं। जिसमें फर्जी नाम और पता है। इसके अलावा भी कई अनियमितताओं का पता चला है।

 

Source : Agency